0

बारां.

जिला कोरोना मुक्त घोषित हो चुका है। कोविड केयर सेंटर में भर्ती आखिरी मरीज को शनिवार सुबह डिस्चार्ज कर दिया गया। 53 दिन में कोरोना वायरस से बारां ने रिकवरी कर ली है। बारां में कुल 62 केस आए जिनमें से 4 मरीजों की मौत हो गई। बारां का रिकवरी रेट 93.54 फीसदी पहुंच गया है। जिले में 29 अप्रैल को कोरोना की एंट्री हुई थी। श्योपुर से लौटी भंवरगढ़ निवासी बालिका का मामला पॉजिटिव आया था। इसके बाद एक-एक करके कोरोना पॉजिटिव के मामले सामने आते गए। जिले में कोरोना के पहले केस के सामने आने के 18 दिन बाद 16 मई से रिकवरी होना शुरू हो गया। मई में कुल 3 केस पॉजिटिव से नेगेटिव में आने से लोगों की उम्मीद बढ़ती गई। राहत की बात यह रही कि जून के महीने में यह आंकड़ा बढ़कर 58 तक पहुंच गया है। शनिवार को आखरी मरीज भी डिस्चार्ज हो गया। डिप्टी सीएमएचओ डॉ. राजेंद्र कुमार मीणा ने बताया कि जिले में कोरोना को लेकर पहले से सर्वे और स्क्रीनिंग की जा रही थी। 29 अप्रैल को पहला केस सामने आया। इसमें तीन स्तर पर काम किया गया। एक टीम कंटेनमेंट प्लान तैयार करती। दूसरी आरआरटी टीम मौके पर पहुंचकर सैंपलिंग करती। तीसरी टीम संक्रमित व्यक्ति के कांटेक्ट में आए लोगों की जानकारी एकत्रित करती। जिसके आधार पर आगामी सैंपलिंग की जाती। फील्ड स्टाफ रेगुलर सर्वे करता था। कोई भी संदिग्ध मिलने पर उसकी सैंपलिंग कराकर क्वारैंटाईन करवाते थे। कंटेनमेंट जोन में मेडिकल गाइड लाइन की पालना करवाई। सर्वे का नजदीकी से एनालिसिस करवाया। मुख्य बात थी समय पर मौके पर पहुंचना और कांन्टेक्ट ट्रेसिंग करवाना। सभी ने मिलकर काम किया है, जिससे हम जीत हासिल कर सके हैं।

hemraj

राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय में तीन दिवसीय वेबीनार आउटकम एजुकेशन तथा एनबीए एक्रीडिटेशन का शुभारंभ

Previous article

विभिन्न रोगों में लाभदायक योग प्राणायाम के बारे में बताया

Next article

You may also like

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *