0

जयपुर.

विभाग द्वारा रोडवेज परिचालक के पदों पर भर्ती के लिए 12वीं पास अभ्यर्थीयों से आवेदन आमंत्रित किए जाते हैं। रोडवेज विभाग कर्मचारियों की भर्ती संविदा स्तर पर भी करता है। लेकिन रोडवेज में चालकों के पदों पर संविदा और परिचालक के पदों पर सीधी भर्ती राज्य कारकार करती है। जल्द ही राजस्थान में भी रोडवेज परिचालक भर्ती निकाली जा सकती है। रोडवेज परिचालक पद पर भर्ती के लिए मांगी जाने वाली पात्रता के बारे में निचे विस्तृत जानकारी दी गई है।पात्रता रोडवेज परिचालक भर्ती के लिए राज्य सरकारें शैक्षणिक योग्यता के तौर पर 10वीं और 12वीं पास युवाओं से आवेदन आमंत्रित करती है। रोडवेज परिचालक पद के लिए अभ्यर्थी के पास परिचालक का लाइसेंस और बैज होना जरुरी है। परिचालक पद के लिए प्राथमिक चिकित्सा के  लिए एसटी जोन्स का प्रमाण पत्र होना चाहिए। उम्मीदवार का चिकित्सा परीक्षण भी किया जाता है। इस भर्ती के लिए महिला उम्मीदवारों को भी कुल पदों में से सरकार के नियमानुसार आरक्षण देय है।चयन प्रक्रिया रोडवेज में परिचालक के पद पर भर्ती के लिए लिखित परीक्षा आयोजित की जाती है। लिखित परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर ही पदों के अनुरूप वरीयता सूची तैयार की जाती है। दस्तावेज सत्यापन के बाद नियुक्ति प्रक्रिया पूरी की जाती है।प्राथमिक चिकित्सा प्रमाण पत्र प्राथमिक चिकित्सा सिखने के लिए चिकत्सालय से प्रशिक्षण प्राप्त करना जरुरी होता है। ऐसे में रेडक्रॉस हॉस्पिटल द्वारा करवाया जाने वाला प्राथमिक चिकित्सा का प्रशिक्षण दिया जाता है। यह कोर्स 4 दिवस का है। सोमवार को प्रशिक्षण के लिए शुल्क भुगतान और आवेदन किया जाता है। अंतिम दिन प्रमाण पत्र दिए जाते हैं। यह प्रमाण पत्र 6 महीने की अवधि के लिए वैद्य होता है। इसके बाद डाक द्वारा प्रमाण पत्र भेज दिया जाता है जो एक निश्चित अवधि के लिए वैद्य होता है, जिसे तय शुल्क देकर नवीनीकरण किया जा सकता है। याद रखें आवेदन फॉर्म सोमवार को ही फॉर्म भरे जाते हैं और प्रशिक्षण इसी दिन से शुरू होता है।कैसे बनवाएं रोडवेज कंडक्टर लाइसेंस ‘रोडवेज परिचालक लाइसेंस कैसे बनवाएं’ हमेशा सर्च किया जाता है। रोडवेज परिचालक का लाइसेंस बनवाने के लिए जितना जल्दी हो सके, समय निकाल लेवें। परिचालक लाइसेंस बनवाने पहले प्राथमिक चिकित्सा प्रमाण पत्र लेना होगा। प्राथमिक चिकित्सा सिखने के लिए रेडक्रॉस हॉस्पिटल जाना होगा और फॉर्म भरकर क्लासेज लेनी होगी। रेडक्रॉस द्वारा प्रशिक्षण के बाद प्रमाण पत्र और मेडिकल सर्टिफिकेट दिया जाएगा। आगे की प्रक्रिया जिला परिवहन कार्यालय में होगी। सभी शैक्षणिक दस्तावेजों, मेडिकल और प्राथमिक चिकित्सा प्रमाण पत्र के साथ परिचालक लाइसेंस आवेदन फॉर्म भरना होगा। आवेदन फॉर्म को जिला परिवहन अधिकारी के समक्ष आवेदन शुल्क सहित पेश करके मार्क करवाना होगा। जिला परिवहन कार्यालय द्वारा अभ्यर्थी के संबंधित पुलिस थाने में वाया पुलिस अधीक्षक वेरिफिकेशन भेजा जाएगा। पुलिस द्वारा जारी चरित्र प्रमाण पत्र के साथ पुनः परिवहन कार्यालय में जाना होगा। परिवहन कार्यालय में चरित्र प्रमाण पत्र और सभी दस्तावेजों के साथ आवेदन पत्र को फिर से संबंधित अधिकारी के पास ले जाना होगा, परिवहन अधिकारी द्वारा हस्ताक्षर किए जाने के बाद परिचालक का लाइसेंस बना दिया जाता है। परिचालक लाइसेंस जारी करने में लगभग एक महीने का समय लगता है। यह लाइसेंस डाक द्वारा घर के पते पर भेजा जाता है।

hemraj

पर्यावरण पखवाड़े में स्काउट गाइड ने चलाया चम्बल सफाई अभियान

Previous article

23 अस्थि कलश लेकर बस रवाना

Next article

You may also like

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *