0

खरीफ मौसम की बुवाई का समय शुरू हो गया है इसके साथ ही किसानों ने बीज के साथ उर्वरक खरीदने की प्रक्रिया शुरू कर दी है | खरीफ मौसम के लिए जुताई के साथ उर्वरक ओर बीज पर ज्यादा खर्च किसानों का होता है | इसके लिए किसान बैंक तथा साहूकारों से कर्ज लेते हैं | बैंक से कर्ज किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से या राज्य सरकार की योजना के माध्यम से लेते हैं  | किसान क्रेडिट कार्ड पर 9 प्रतिशत के ब्याज पर रहता है, जिसपर केंद्र सरकार इसमें 2 प्रतिशत की सब्सिडी देती है तथा एक वर्ष में लौटने पर ब्याज में 3 प्रतिशत कि अतिरिक्त सब्सिडी देती है | किसानों को कर्ज से बचाने के लिए कई राज्य खरीफ तथा रबी सीजन में फसली ऋण देती है जो ब्याज मुक्त रहता है | यह फसली ऋण फसल के आधार पर दिया जाता है जो किसान क्रेडिट कार्ड की तरह रहता है लेकिन ब्याज मुक्त रहता है | राजस्थान सरकार राज्य में वर्ष 2020–21 सीजन में 10 हजार करोड़ रूपये तक का फसली ऋण दे रही है | सहकारिता मंत्री श्री उदय लाल आंजना ने बताया कि राज्य के 16 लाख 36 हजार 396 ग्राम सेवा सहकारी समिति के सदस्य किसानों को 5,287 करोड़ रूपये का सहकारी खरीफ फसली ऋण का वितरण किया जा चूका है यह ब्याज मुक्त अल्पकालीन फसली ऋण वर्ष 2020–21 में 25 लाख किसानों को वितरण करने का लक्ष्य है |
आंजना ने बताया कि 16 अप्रैल से प्रारंभ हुए खरीफ सीजन के फसली ऋण में 31 अगस्त तक 10 हजार करोड़ रूपये किसानों को वितरित किए जाने का लक्ष्य है | जबकि रबी सीजन में 1 सितम्बर से 31 मार्च 2021 तक 6 हजार करोड़ रूपये का फसली ऋण वितरित किया जाएगा | वर्ष 2020–21 में 3 लाख के लक्ष्य के विरुद्ध 2 लाख 34 हजार 189 नये किसानों को भी फसली ऋण से जोड़ा जा चुका है।, जिसमें से खरीफ सीजन में अब तक 86 हजार 558 किसानों को ऋण का वितरण हो चूका है | सहकारी विभाग के प्रमुख सचिव नरेश गंगवार ने बताया कि 8 जून तक फसली ऋण देने का विवरण दिया है | जयपुर जिले में 1 लाख 51 हजार 431 किसानों को 475 करोड़ रूपये बाड़मेर जिले में 1 लाख 28 हजार 548किसानों को 415करोड़ रूपये भीलवाडा जिले में 88 हजार 294 किसानों को 275 करोड़ रूपये जोधपुर जिले में 69 हजार 632किसानों को 268 करोड़ रूपये श्री गंगानगर जिले में 72 हजार 999 किसानों को 255 करोड़ रूपये चितौड जिले में 78 हजार 40 किसानों को 251 करोड़ रूपये का फसली ऋण वितरित किया जा चूका है | अपेक्स बैंक परशुराम मीणा ने बताया कि जयपुर , टोंक एवं बाड़मेर जिलों में निर्धारित लक्ष्य के विरुद्ध 75 प्रतिशत से अधिक फसली ऋण का वितरण हो चूका है | इसी प्रकार सवाई माधोपुर, बीकानेर एवं बूंदी जिलों में 60 प्रतिशत से अधिक तथा भीलवाडा, अजमेर, झुंझुन व जोधपुर जिलों में 57 प्रतिशत से अधिक फसली ऋण का वितरण हुआ है | उन्होंने बताया कि भरतपुर , जैसलमेर, जालोर एवं बारां जिलों में ऋण वितरण कि धीमी गति पर संबंधित प्रबंध निदेशकों को शीघ्रता लाने के निर्देश दिए गए है | ब्याज मुक्त फसली ऋण योजना राजस्थान सरकार द्वारा के किसानों को दिये जाने वाला फसली ऋण ब्याज मुक्त है | इसमें किसी भी प्रकार  का ब्याज नहीं लिया जाता है  परन्तु समय पर नहीं चुकाने पर किसानों से 14 प्रतिशत तक का ब्याज लिया जायेगा | किसानों को साख सीमा के अनुसार ही ऋण का वितरण किया जाता है | किसान यहाँ लोन ई मित्र के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन के जरिया या सहकारी समिति के माध्यम से ले सकते हैं |

hemraj

किसानों को बिना गारन्टी से मिलेगा तीन लाख का लोन

Previous article

बड़ी खबर: प्रदेश की सभी सीमाएं सील

Next article

You may also like

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *