कॉटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने 2020-21 के लिए फसल अनुमान कम किया
0

कपास

कॉटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया कपास की फसल का अनुमान घटाकर कर दिया है 354.50 लाख गांठें, गुजरात और तेलंगाना में कम उत्पादन के बाद, पिछले महीने की तुलना में 2020-21 के लिए जुलाई के अनुमान में 1.50 लाख गांठ कम है। जबकि 2019-2020 में कुल कपास उत्पादन करीब 360 लाख गांठ रहा।

कपास उत्पादन अनुमान:

सीएआई ने कहा है कि उत्तर भारत के लिए कपास फसल उत्पादन का अनुमान पिछले महीने के अनुमान के समान ही रहेगा 65.50 लाख बाल्स. जबकि मध्य भारत के लिए कम 0.50 लाख गांठ प्रति 193.50 लाख गांठ से १९४ लाख पिछले महीने के दौरान अनुमानित गांठें।

सीएआई ने यह भी कहा कि की कमी है 2.50 लाख गांठ गुजरात के लिए फसल अनुमान में; जबकि महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के लिए; पिछले महीने इन राज्यों के अनुमानों की तुलना में इसमें क्रमश: 1.50 लाख गांठ की वृद्धि हुई है।

सीएआई के आंकड़ों के अनुसार, दक्षिणी भारत के लिए फसल अनुमान पिछले महीने के दौरान 1 लाख गांठ घटाकर 90.50 लाख गांठ कर दिया गया है। अक्टूबर 2020 से जुलाई 2021 की अवधि के दौरान सीएआई द्वारा अनुमानित कुल आपूर्ति है 482.61 लाख गांठ.

इसमें 348.61 लाख गांठ की आवक, 9 लाख गांठ का आयात और सीजन की शुरुआत में 11 अक्टूबर, 2020 को 125 लाख गांठ का शुरुआती स्टॉक शामिल है।

घरेलू और निर्यात अनुमान:

वर्ष 2020-21 के लिए घरेलू खपत लॉकडाउन के कारण व्यवधानों के बावजूद सूती धागे की उच्च मांग को देखते हुए यह 30 सितंबर, 2021 तक 5 लाख गांठ अधिक होने का अनुमान है।

निर्यातक सदस्यों से प्राप्त फीडबैक के आधार पर सीएआई ने सीजन के लिए निर्यात अनुमान 72 लाख के अपने पिछले अनुमान से बढ़ाकर 77 लाख गांठ कर दिया है।

यह निर्यात अनुमान पिछले वर्ष के 50 लाख गांठ से 27 लाख गांठ अधिक है। सीजन के अंत में कैरीओवर स्टॉक अर्थात 30 सितंबर, 2021 को अब 82.50 लाख होने का अनुमान है।

कृषि की दुनिया से जुड़े अपडेट के लिए कृषि जागरण से जुड़े रहें!

वेस्टेड डॉल्फिन

राजस्थान सरकार ने महिलाओं से संबंधित शिकायतों की निगरानी के लिए त्रिस्तरीय समिति बनाई

Previous article

यह राज लड़का जेईई मेन्स में 100 पीसी तक नहीं रुका

Next article

You may also like

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in खेती