0
वर्षा जनित आपदा से बचाव के लिए आवश्यक संसाधनों के साथ पूरी तैयारी रखे 

कोटा

जिला कलक्टर ओम कसेरा ने कहा कि आने वाले समय में वर्षा जनित आपदा के समय आवश्यक संसाधनों की उपलब्धता के लिए सभी अधिकारी पूरी तैयारी के साथ संसाधनों को सूचीबद्ध कर उनका भौतिक सत्यापन किया जाना सुनिश्चित करें।
कलक्टर सोमवार को मानसून पूर्व आपदा राहत की तैयारियों की उपखण्डवार वीडियो कॉन्फें्रस के माध्यम से समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्षा जनित आपदा से बचाव के लिए सभी विभाग एवं उपखण्ड स्तरीय अधिकारी आपसी संवाद रखते हुये अद्यतन रहे। उन्होंने कहा कि जिले में नदी के बहाव क्षेत्र में स्थित गांवों में अधिक वर्षा से प्रभावित होने वाले स्थानों का चिन्हिकरण कर आमजन को जागरूक करें। उन्होंने कहा कि अधिक वर्षा से प्रभावित गांवों में आवश्यक संसाधनों एवं आपदा के समय की जाने वाली तैयारियों की अभी से जांच कर ले। उन्होंने कहा कि कोटा बैराज से पानी छोडे जाने की स्थिति में संबंधित ग्राम पंचायतों के जनप्रतिनिधि एवं स्थानीय कार्मिकों को दूरभाष पर सूचित करने की कार्य योजना अभी से तैयार रखे।
जिला कलक्टर ने कोटा नगर निगम क्षेत्र में पानी भराव वाले स्थानों एवं बैराज से पानी छोडने की दिशा में प्रभावित क्षेत्रों में पानी की आवक के स्थानों पर स्थायी रूप से चेतावनी की सूचना लिखवानेे के निर्देश दिये। उन्होंने उपखण्डवार जेसीबी, फावडे, परात, मिट्टी के कट्टों आदि सामग्री एवं पानी भराव वाले स्थानों पर सुरक्षित ठहराव के स्थानों को सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। उन्होंने जिले के सभी बांधों के गेट एवं तालाबों की पाल का निरीक्षण सिंचाई एवं पंचायतीराज विभाग द्वारा संयुक्त रूप से करने के निर्देश दिये। उन्होंने सभी विभागों एवं उपखण्ड स्तर के अधिकारियों को मानसून के दौरान जिला प्रशासन की अनुमति बिना मुख्यालय नहीं छोडने के निर्देश दिये।
जिला कलक्टर ने कहा कि शहरी क्षेत्र में पानी भराव वाले स्थानों को सूचीबद्ध कर आवश्यक संसाधनों को तैयार रखे। उन्होंने कहा कि आपदा के समय सभी विभाग आपसी समन्वय एवं संवाद के साथ टीम भावना रखते हुये कार्यो को पूरा करें। उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग एवं सार्वजनिक निर्माण विभाग पुराने क्षतिग्रस्त सरकारी भवनों तथा सार्वजनिक स्थानों पर निजी आवासों को चिन्हित कर उनको सूचनापट्ट लगवाना सुनिश्चित करें। एसडीआरएफ, आरएसी व सिवील डिफेंस, गोताखोरों व उपलब्ध संसाधनों को सूचीबद्ध कर मोकड्रिल किया जाना सुनिश्चित करें। विद्युत निगम ढीले तारों व ट्रांसफार्मरों की जांच कराये तथा पेयजल विभाग जलापूर्ति के तंत्र की जांच कराना सुनिश्चित करें। इस अवसर पर अतिरिक्त कलक्टर नगर आरडी मीणा, सिलिंग सत्यनारायण अमेठा, सीईओ जिला परिषद टीसी बोहरा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मुख्यालय राजेश मील, ग्रामीण पारस जैन, उपायुक्त नगर निगम अशोक त्यागी, अधीक्षण अभियंता जल संसाधन शाबिर हुसैन सहित संबंधित विभागों के अधिकारी तथा वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सभी उपखण्ड अधिकारी, विकास अधिकारी जुडे रहे जिन्होंने उपखण्डवार तैयारियों की जानकारी दी।

hemraj

अंतिम पांचाल की आतिशी पारी से कुंजेड जीता

Previous article

मनरेगा श्रमिकों को 200 रुपए से कम नही मिलेगी मजदूरी

Next article

You may also like

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in कोटा