0
फर्जी दस्तावेजों से चम्बल में दौड़ रही थी नाव, मुकदमा दर्ज 
 कूटरचित दस्तावेज तैयार कर एजेंसी ने हासिल किया था नाव का फिटनेस प्रमाण पत्र
 मुकंदरा वन्यजीव समिति की याचिका पर कोर्ट ने दिए कार्रवाई के आदेश, पुलिस जांच में जुटी
कोटा
मुंकदरा टाइगर रिजर्व में कूट रचित दस्तावेजों से नौकायन का टेंडर हासिल करने के मामले में न्यायालय ने आरकेपुरम थाना पुलिस को संबंधित एजेंसी पर एफआईआर दर्ज कर आरोपों की जांच के आदेश दिए है। मुकंदरा वन्यजीव समिति के अध्यक्ष तपेश्वर सिंह भाटी ने कूटरचित दस्तावेज तैयार कर चंबल नदी में नौकायन का टेंडर हासिल करने वाली इस एजेंसी के खिलाफ याचिका दायर की थी। 
मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट क्रम संख्या तीन ने प्रकरण से संबंधित सभी दस्तावेजों की जांच के उपरांत बुधवार को पूरे मामले की जांच कर पुलिस को कार्रवाई करने के आदेश दिए है। आदशों में कहा गया कि अभियुक्त माया तोमर ने चंबल नदी में नौकायन का टेंडर हासिल करने के लिए नौका आरजे 20-046 के कूट रचित दस्तावेज तैयार कर फिटनेस प्रमाण पत्र हासिल किया था। जबकि, नौका अवधि पार हो चुकी थी। जिससे नौकायन करने वाले पर्यटकों को जान का खतरा है और इसके संचालन पर पाबंदी लगाई जाए। 
दो साल पहले खुला था मामला 
मुकंदरा टाइगर रिजर्व कार्यालय ने मई 2018 में चंबल में नौकायन करने वाली सभी एजेंसियों से नौकाओं का फिटनेस प्रमाण पत्र मांगा था। विभाग ने 5 साल पुरानी नौकाओं को नौकायन के लिए अयोग्य माना। ऐसे में माया तोमर ने कूट रचित दस्तावेज तैयार कर फिटनेस प्रमाण पत्र हासिल कर लिया। शिकायत पर जांच की गई तो नौका खरीद का बिल और मान्यता की तिथि में अंतर आ रहा था। इसमें नौका खरीद की तिथि सितंबर 2014 थी। जबकि, नौका की मान्यता जून 2014 आ रही थी। कार्यालय ने इस पर जवाब मांगा तो अभियुक्त ने भुगतान दो किस्तों में होने से बिल बाद का लगाना बताया। जब आरटीओ कार्यालय में फिटनेस प्रमाण पत्र खंगाला गया तो वह 6 दिसंबर 2013 में चंबल गार्डन से नौकायन के लिए जारी किया जाना पाया गया। जिसके आधार पर पूरे प्रमाण पत्र कूट रचित निकले। 
मुकदमा हुआ दर्ज 
फरियादी ने पहले राजस्थान संपर्क पोर्टल के माध्यम से भी शिकायत दर्ज की थी, लेकिन उचित कार्रवाई नहीं होने पर न्यायलय में परिवाद दायर किया था। जिस पर सुनवाई करने के बाद मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट क्रम संख्या तीन ने बुधवार को पुलिस को एंजेंसी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर कार्रवाई करने के आदेश जारी किए थे। गुरुवार को आरकेपुरम पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।
hemraj

डॉ. कंचना सक्सेना की पुस्तक  सिविक सेंस का विमोचन 

Previous article

मुकुन्दरा में बाघिन के साथ शावकों की अठखेलियां

Next article

You may also like

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in कोटा