0

कोरोनाकाल में मजबूत हुई कोटा की साख

कोविड टाइम में कोटा (kota coaching) की छवि और अधिक मजबूत हुई है क्योंकि पूरे देश में कोटा ही एकमात्र ऐसा शहर था जहां स्टूडेंट्स की अभूतपूर्व केयर की गई। कोविड के दौरान कोटा से 58 हजार स्टूडेंट्स को सकुशल उनके घरों तक भेजा गया। इसमें कोटा के कोचिंग संस्थानों के साथ-साथ यहां के जिला प्रशासन, राज्य सरकार और केन्द्र सरकार तक का सहयोग रहा। यही नहीं यह भी एक कीर्तिमान ही रहा कि कोटा से ही कोविड टाइम में पहली बार ट्रेन की सुविधा स्टूडेंट्स के लिए शुरू की गई। कोटा से झारखंड और बिहार के लिए ट्रेनों से हजारों स्टूडेंट्स को भेजा गया।

स्वागत के लिए तैयार

कोटा एक बार फिर स्टूडेंट्स के स्वागत के लिए तैयार है। यहां स्टूडेंट्स व पेरेन्ट्स आने लगे हैं। कोचिंग संस्थानों में प्रवेश शुरू हो चुके हैं। कोटा स्टूडेंट्स का स्वागत करने के लिए कोटा तैयार है जो आईआईटीयन या डॉक्टर बनने का सपना लिए कोटा आने लगे हैं। रेलवे स्टेशन, बस स्टैण्ड या शहर के होटल, लगभग सभी जगह इन दिनों पेरेन्ट्स व स्टूडेंट्स देखने को मिल रहे हैं।

व्यापारी लोकेश दाधीच ने बताया की कोटा में कोचिंग खुलने से रोजगार के अवसर बढ़ेंगे !

राजस्थान में 18 जनवरी से स्कूल, कॉलेज व कोचिंग खुलेंगे, मेडिकल से जुड़े संस्थान 11 जनवरी से शुरू

Previous article

‘परमवीर’ पर आया एक्टर सलमान खान का दिल, 1 करोड़ रुपये देने को तैयार; मालिक का बेचने से साफ इनकार

Next article

You may also like

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in कोटा