0
अवैध खनन की रोकथाम के लिए प्रभावी कार्यवाही करें-संभागीय आयुक्त

कोटा

संभागीय आयुक्त कैलाश चन्द मीणा की अध्यक्षता में जिले में विभिन्न स्थानों पर हो रहे अवैध खनन प्रकरणों की समीक्षा एवं उनकी रोकथाम के लिए की जाने वाली कार्यवाही के संबंध में सोमवार को सीएडी सभागार में विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक आयोजित की गई।
बैठक में संभागीय आयुक्त ने कहा कि अवैध खनन की रोकथाम के लिए प्रभावी कार्य योजना बनाई जाये तथा ऐसे स्थानों को चिन्हित कर सूची तैयार की जाये जहां अवैध खनन किया जा रहा हो। उन्होंने संबंधित विभाग के अधिकारियों से पूछा कि अवैध खनन की रोकथाम के लिए वर्तमान में विभिन्न विभागों द्वारा राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुरूप अवैध खनन की कार्यवाही को प्रभावी रूप से रोकने के क्या उपाय किये जा रहे है। उन्होंने सभी विभागों से अवैध खनन के प्रभावी रोकथाम तथा प्रभावी कार्यवाही के रचनात्मक सुझाव भी प्रस्तुत करने की बात कही जिससे जिले में अवैध खनन को पूर्णतया रोका जा सकें।
संभागीय आयुक्त ने निर्देश दिये कि राजस्व, पुलिस वन, नगर निगम एवं नगर विकास न्यास तथा  खनिज विभाग संयुक्त रूप अवैध खनन करने वाले के खिलाफ आकस्मिक कार्यवाही की जाये। उन्होंने अवैध खनन के स्थानों को चिन्हित कर उसमें निकलने वाली बजरी अथवा अन्य खनिज को स्थायी रूप से रोकने के लिए राज्य सरकार तथा विभागों की गाईडलाईन के अनुरूप संयुक्त टीमें बनाकर अवैध खनन की प्रभावी रोकथाम के लिए अभियान के रूप में प्रभावी कार्यवाही करने के भी सख्त निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि अवैध खनन के भंडार को चिन्हित करें तथा विभिन्न धाराओं में मुकदमें दर्ज कर स्टॉक की नीलामी की कार्यवाही भी मौके पर करें। उन्होंने अवैध खनन का परिवहन करने वाले वाहनों एवं इस प्रकार के लोगों के खिलाफ जुर्माने के साथ-साथ कानून अनुसार मुकदमा दर्ज कराने के निर्देश दिये।
एडीएम की अध्यक्षता में कमेटी का गठन
संभागीय आयुक्त ने निर्देश दिये कि अतिरिक्त कलकटर प्रशासन नरेन्द्र गुप्ता की अध्यक्षता में अवैध खनन की रोकथाम के लिए कमेटी का गठन किया जाये। कमेटी में यूआईटी सचिव, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, एसीएफ वन विभाग, खनिज अभियंता को सम्मिलित कर प्रभावी कार्यवाही करने के निर्देश दिये। उन्हांेने यह भी निर्देश दिये कि इस कमेटी को अगर कार्यवाही में आवश्यक इमदाद की जरूरत हो तो संबंधित विभागों से सहयोग लेकर आवश्यक कार्यवाही की जाये। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के दिशा- निर्देशों के अनुरूप अवैध खनन के स्थानों पर वन, खनिज, पुलिस, नगर निगम एवं नगर विकास न्यास कोटा के प्रतिनिधियों की संयुक्त टीम बनाकर उसके प्रभावी रोकथाम की कार्यवाही युद्धस्तर पर जारी रखी जाये।
संभागीय आयुक्त ने कहा कि जिला कलक्टर अवैध खनन की रोकथाम एवं की जा रही कार्यवाही की प्रभावी मॉनीटरिंग करें। उन्होंने कहा कि इस संबंध में पूर्व में गठित टीम द्वारा की गई कार्यवाही के बार में भी जानकारी ली जाये।
वाहनों की प्रभावी जप्ती तथा रिकार्ड संधारण हो 
संभागीय आयुक्त ने कहा कि अवैध खनन की कार्यवाही करते हुए जप्त किये जाने वाले वाहनों को संबंधित पुलिस थाना एवं खनिज विभाग द्वारा वाहनों की जप्ती करते समय उसका रजिस्टर संधारित किया जाये उसमें गाडी संख्या, वाहन मालिका का नाम और कहा से अवैध खान किया जाये रहा  हैं उसकी सूचनाओं का पृथक से संधारण करें। उन्होंने कहा कि अवैध खनन नहीं करने हेतु पाबंद भी  किया जाये। फिर भी यदि वह भविष्य में पुनः उसी वाहन से अवैध खनन करते हुए पाये जाने पर उस रजिस्टर से सत्यापन के आधार पर उसका वाहन स्थाई रूप से जप्त किया जाये, ताकि अवैध खनन की कार्यवाही को प्रभावी रूप से रोका जा सकंे।
क्रेशरों को शहर से बाहर शिफट करने के प्रस्ताव तैयार करें
बैठक में जिले में संचालित क्रेशर जिनसे अवैध खनन की कार्यवाही की जा रही हैं और शहर के नागरिकों पर इसका दुष्प्रभाव पड रहा हो तो ऐसे क्रेशरों का चिन्हिकरण कर उनकी सूचना प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को भिजवाई जाकर उन क्रेशरों को शहर की आबादी क्षेत्र से दूर स्थापित करने के सुझाव अविलंब भिजवाने हेतु अतिरिक्त कलक्टर प्रशासन को निर्देशित किया जिससे शहर के नागरिकों के स्वास्थ्य पर इसका दुष्प्रभाव न पडे।
बैठक में उपमहानिरीक्षक पुलिस कोटा रेंज रविदत्त गौड, अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन नरेन्द्र गुप्ता, अतिरिक्त संभागीय आयुक्त श्रीमती प्रियंका गोस्वामी, पुलिस अधीक्षक  मण्डल वन अधिकारी, खनि अभियंता सहित  नगर निगम एवं यूआईटी के प्रतिनिधि बैठक में उपस्थित रहे।

hemraj

नीट पीजी के द्वितीय राउण्ड का अलॉटमेंट जारी, रिपोर्टिंग आज से  

Previous article

चिकित्सा मंत्री ने कोरोना वाॅरियर चिकित्सक के परिजनों को दिए 50 लाख की राशि के दस्तावेज

Next article

You may also like

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in कोटा